सोमवार, 24 दिसंबर 2007

रागों मे जातियां

वर्ष शेष हो रहा है,लोगों से मिलना जुलना व घूमना फ़िरना इन सभी कारणों से इधर "सरगम" पर कुछ भी लिखा नहीं गया । चलिये आज बात करते है रागों मे प्रयोग होने वाले "जाति " शब्द की । राग विवरण मे सुनते है अमुक राग अमुक जाति का है। "जाति" शब्द राग मे प्रयोग किये जाने वाले स्वरों की संख्या का बोध कराती है । रागों मे जातियां उनके आरोह तथा अवरोह मे प्रयोग होने वाले स्वरों की संख्या पर निर्धारित होती है।

दामोदर पंडित द्वारा रचित संगीत दर्पण मे कहा गया है……

ओडव: पंचभि:प्रोक्त: स्वरै: षडभिश्च षाडवा।
सम्पूर्ण सप्तभिर्ज्ञेय एवं रागास्त्रिधा मत: ॥

अर्थात,जिन रागों मे 5 स्वर प्रयोग होते है वे "ओडव जाति" ,जिन रागों मे 6 स्वर प्रयोग होते हैं वे "षाडव जाति" तथा जिन रागो मे 7 स्वर प्रयोग होते है वे "सम्पूर्ण जाति" के राग कहलाते है। अत: हम देख सकते हैं कि संख्या के आधार पर रागों की मुख्य तीन जातियां होती है-

ओडव जाति= 5 स्वर वाले राग
षाडव जाति = 6 स्वर वाले राग
सम्पूर्ण जाति = 7 स्वर वाले राग

परन्तु अधिकांश रागों के आरोह तथा अवरोह मे समान स्वरों कि संख्या का प्रयोग नही होता, जैसे कुछ रागों के आरोह मे 6 स्वर तथा अवरोह मे 7 स्वर प्रयोग होते है,तो कुछ के आरोह में 5 व अवरोह में 6 अथवा 7 स्वर प्रयोग किये जाते हैं। अब जिन रागों मे आरोह मे 5 व अवरोह मे6 स्वर लगते है उन्हें औडव-षाडवजाति के अन्तर्गत रक्खा जाता है,इसी प्रकार जिन रागो के आरोह मे 5 व अवरोह मे 7 स्वर लगाये जाते है उन्हेऔडव-सम्पूर्णजाति का माना जाता है ।इस प्रकार हम देखते है कि रागों कि मुख्य 3 जातियों से कुल मिलाकर 3* 3 = 9 जातियां बनती हैं ,इनके नाम इस प्रकार हैं………

औडव-औडव- जिनके आरोह मे 5 व अवरोह मे भी 5 स्वर प्रयोग होते हो ।

औडव-षाडव- जिनके आरोह मे 5 व अवरोह मे 6 स्वर प्रयोग होते हो ।

औडव-सम्पूर्ण- जिनके आरोह मे 5 व अवरोह मे 7 स्वर प्रयोग होते हो ।

षाडव-षाडव- जिनके आरोह मे 6 व अवरोह मे भी 6 स्वर प्रयोग होते हो ।

षाडव-औडव - जिनके आरोह मे 6 व अवरोह मे 5 स्वर प्रयोग होते हो ।

षाडव-सम्पूर्ण- जिनके आरोह मे 6 व अवरोह मे 7 स्वर प्रयोग होते हो ।

सम्पूर्ण-सम्पूर्ण - जिनके आरोह मे 7 व अवरोह मे भी 7 स्वर प्रयोग होते हो ।

सम्पूर्ण-षाडव- जिनके आरोह मे 7 व अवरोह मे 6 स्वर प्रयोग होते हो ।

सम्पूर्ण-औडव- जिनके आरोह मे 7 व अवरोह मे 5 स्वर प्रयोग होते हो ।
कुछ रागों की जातियां उनके आरोह अवरोह के आधार पर देखें……

राग भैरव-सम्पूर्ण जाति
आरोह-सा रे_ ग म प ध_ नि सां
अवरो- सां नि ध_ प म ग रे_ सा ।

राग वृन्दावनी सारंग-औडव-औडव जाति
आरोह-नि[mandr] सा,रे म प नि सां
अवरोह-सां,नि_ प,म रे सा ।

राग भीमपलासी-औड्व-सम्पूर्ण जाति
आरोह -नि_[मन्द्र] सा ग_ म प नि_ सां
अवरोह- सां नि_ ध प म ग_ रे सा ।

आइये सुने "अली अकबर खान" द्वारा सरोद पर बजाया, औड्व-सम्पूर्ण जाति का राग भीमपलासी

Get this widget | Track details | eSnips Social DNA

16 टिप्‍पणियां:

Neeraj Rohilla ने कहा…

ye jaankaari khoob rahi, maaf keejiye is computer se hindi mein type nahin kar sakta.

Ab dheere dheere nayee jaankaariyaan mil rahi hein aur shastriye sangeet sun ne mein aur aanand aa raha hai.

aapka bahut aabhar,

कंचन सिंह चौहान ने कहा…

संगीत के क्षेत्र की महत्वपूर्ण जानकरी।

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

सृजन-सम्मान द्वारा आयोजित सर्वश्रेष्ठ साहित्यिक ब्लॉग पुरस्कारों की घोषणा की रेटिंग लिस्‍ट में आपका ब्लाग देख कर खुशी हुई। बधाई स्वीकारें।

Alpana Verma ने कहा…

namste parul ji,
bahut achcha blog hai aap ka-chitthajagat se khinchee chali aaye hun--sangeet ke baki article padhne dobara aayungi--dhnywaad.

rakee ने कहा…

i have seen your web page its interesting and informative.
I really like the content you provide in the web page.
But you can do more with your web page spice up your page, don't stop providing the simple page you can provide more features like forums, polls, CMS,contact forms and many more features.
Convert your blog "yourname.blogspot.com" to www.yourname.com completely free.
free Blog services provide only simple blogs but we can provide free website for you where you can provide multiple services or features rather than only simple blog.
Become proud owner of the own site and have your presence in the cyber space.
we provide you free website+ free web hosting + list of your choice of scripts like(blog scripts,CMS scripts, forums scripts and may scripts) all the above services are absolutely free.
The list of services we provide are

1. Complete free services no hidden cost
2. Free websites like www.YourName.com
3. Multiple free websites also provided
4. Free webspace of1000 Mb / 1 Gb
5. Unlimited email ids for your website like (info@yoursite.com, contact@yoursite.com)
6. PHP 4.x
7. MYSQL (Unlimited databases)
8. Unlimited Bandwidth
9. Hundreds of Free scripts to install in your website (like Blog scripts, Forum scripts and many CMS scripts)
10. We install extra scripts on request
11. Hundreds of free templates to select
12. Technical support by email

Please visit our website for more details www.HyperWebEnable.com and www.HyperWebEnable.com/freewebsite.php

Please contact us for more information.


Sincerely,

HyperWebEnable team
info@HyperWebEnable.com

bhupen ने कहा…

लिखना जारी रखिए. आपका ब्लॉग संगीत का शौक रखने वालों का एक ख़ास ठिकाना हो सकता है.

Kavi Kulwant ने कहा…

बहुत खूबसूरत..
http://kavikulwant.blogspot.com
कवि कुलवंत सिंह

महामंत्री (तस्लीम ) ने कहा…

संगीत पर ज्ञानवर्द्धक जानकारी है। आशा है आप भविष्य में इसी प्रकार संगीत की खास जानकारी को आम करती रहेंगी।

ajay kumar jha ने कहा…

parul jee,
aapke gyan par sirf achambhit aur awak huaa jaa saktaa hai, jo ki main bhee hoon. bahut khoob.

महावीर ने कहा…

आज पहली बार आपका ब्लॉग देखा। शास्त्रीय संगीत के विषय पर नेट पर बहुत कम लिखा गया है। जिनको संगीत से लगाव है, उनके लिए तो यह ब्लॉग बहुत ही लाभदायक है, चाहे वह अनुभवी हो या अनुभवहीन।
दूसरे, जगह जगह पर आपकी अपनी आवाज़ में सिखाना और भी रुचिकर हो गया है।
हो सके तो कभी आफ़ताबे मौसीक़ी फ़ैय्याज़ खान को भी सुनवाइये।
ब्लॉग के लिए बधाई।

हरे प्रकाश उपाध्याय ने कहा…

parul ji aaj ghumte-ghumte idhr aa bhatka...to maja aa gya, lga dekho ab tk jivn akarth ja rha tha, ab arth mil gya...idhr aakr apni besuri jindgi me ab rag bhra krunga...aise...thoda alg htkr blog ke lie shukriya...mera to kam ho gya ji...thank you

हर्षवर्धन ने कहा…

रागों की जातियां कमाल है।

pallavi trivedi ने कहा…

dhanyvaad parul ji...aapne ye blog shuru kiya. maine bhi pahle kabhi 4-5 saal shaastreey sangeet seekha tha. uske baad naukri ke jhamelon mein use jaari rakhne ka samay hi nahi mila...aapke blog par baar baar aaungi.

mahendra mishra ने कहा…

बड़ी सुंदर बहुत खूबसूरत मनमोहक धन्यवाद

Radhika Budhkar ने कहा…

Are maine to aapka yah blog dekh ahi nahi tha,Bahut achcha blog hain yah to.Badhai

makrand ने कहा…

u r blog is good for those who have knowedge of music
and also like us who liste carefully but do nt know grammer of music
regards